Search This Blog

Monday, 2 June 2014

ठहरी ज़िन्दगी में बवाल तुम


जवाब तुम और सवाल तुम
ठहरी ज़िन्दगी में बवाल तुम 

हैरां चश्म और अक़्ल परीशाँ 
थमे  लहू में उबाल तुम

  ज़हन में आये हो  इस तरह 
बन के ग़ज़ल का  ख़याल तुम

आगोश-ए-बहर में पिन्हा शम्स   
फ़राज़ का मेरी हो ज़वाल तुम 
[ आगोश-ए-बहर = embrace of ocean, पिन्हा = hidden, शम्स = sun, फ़राज़ = elevation; ज़वाल = decline]

है अजीब हालात 'मुज़्तरिब '
मस्सर्रत तुम और मलाल तुम
[मस्सर्रत = happiness, मलाल = sadness ]

'मुज़्तरिब' 

jawaab tu aur sawaal tum
tahri zindagi mein bawaal tum

hairaan chasm aur aql pareshan 
thame lahoo mein ubaal tum

aaye ho zehan mein iss tarah
ban ke ghazal ka khayal tum

aagosh-e-bahar mein pinhaa shams 
faraaz ka meri ho zavaal tum

hai ajbeeb haalaat muztarib 
masarrat tum aur malaal tum

'Muztarib' 

No comments: