Search This Blog

Sunday, 15 January 2012

कमर बांधे हुए चलने को यां सब यार बैठे हैं

video

(Mohd. Rafi)

कमर बांधे हुए चलने को यां सब यार बैठे हैं
बहुत आगे गए, बाकी जो हैं, तैयार बैठे हैं

न छेड़ ऐ निकहत-ए-बाद-ए-बहारी! राह लग अपनी
तुझे अठखेलियाँ सूझी हैं, हम बेज़ार बैठे हैं
(निकहत : fragrance; बाद-ए-बहारी : spring breeze; अठखेलियाँ : playfulness; बेज़ार : despair)

ख्याल उनका परे है अर्श-ए-आज़म से कहीं साकी
ग़रज़ कुछ और धुन में इस घड़ी मैख्वार बैठे हैं
(‘अर्श-ए-आज़म: God’s seat in heaven; साकी: cup-bearer; मैख्वार: drunkards)

बसाने नक्श-ए-पा-ए-राहरवां कू-ए-तम्मना में
नहीं उठने की ताकत क्या करें लाचार बैठे हैं 
[नक्श-ए-पा-ए-राहरवां = footprint of the traveller,कू-ए-तम्मना  = lane of love ]

कहे है सब्र किस को? आह! नंग-ओ-नाम क्या शै है
यहाँ रो पीट कर इन सब को हम यक बार बैठे हैं
 (सब्र : patience; नंग-ओ-नाम : disgrace and honour; शै : something; यकबार : finally)

कहीं बोसे की मत जुर्रत दिलां कर बैठियो उनसे
अभी इस हद्द को वो काफी नहीं, होशियार बैठे हैं
(बोसे : kiss; जुर्रत : courage; बैठियो : to sit; हद्द : limit; होशियार : cautious)

नजीबों का अजब कुछ हाल है इस दौर में, यारों!!
जिसे पूछो, यही कहते हैं, हम बेकार बैठे हैं
(नजीबों : nobles; दौर : era; बेकार : useless)


नई यह वज़ा शर्माने की सीखी आज है तुमने
हमारे पास साहब,  वर्ना यूँ सौ बार बैठे हैं 

ये अपनी चाल है उफ्तादगी से अब की पहरों तक
नज़र आया जहाँ पर साया-ए-दीवार बैठे हैं

भला गर्दिश फ़लक की चैन देती है किसे 'इंशा'
गनीमत है की हम-सूरत यहाँ दो चार बैठे हैं
(गर्दिश: bad times; फ़लक : heavens; गनीमत : blessing; हम-सूरत: similar folks)

सय्यद इंशा अल्लाह खान 'इंशा'


kamar baandhe hue chalne ko yaan sab yaar baithe hain
bahut aage gaye, baaqii jo hain tayyaar baithe hain
(kamar baandhe : ready to move)

na chhed, ai nikhat-e-baad-e-bahaarii ! raah lag apnii
tujhe athkheliyaan suujhii hain, ham bezaar baithe hain
(nik’hat : fragrance; baad-e-bahaarii : spring breeze; raah lag apnii : go on your way; aThkheliyaaN : playfulness; be-zaar : despair)

Khayaal un kaa pare hai ‘arsh-e-aazam se kahiin, saaqii !
Gharaz kuchh aur dhun mein is ghadii maikhvaar baithe hain
(‘arsh-e-aazam : God’s seat in heaven; saaqii : cup-bearer; mai-Khvaar : drunkards)

basaane naqsh-e-paa-e-raharavaa.N kuu-e-tamannaa me.n
nahii.n uThane kii taaqat kyaa kare.n laachaar baiThe hai.n

kahe haiN sabr kis ko? aah ! nang-o-naam hai kyaa shai
yahen ro piiT kar in sab ko, ham yak-baar baiThe haiN
(sabr : patience; nang-o-naam : disgrace and honour; shai : something; yak-baar : finally)

kahiiN bose kii mat jurrat dilaa kar baiThiyo un se
abhii is hudd ko vo kafii nahiiN, hoshiyaar baiThe haiN
(bosaa : kiss; jurrat : courage; baiThiyo : to sit; hudd : limit; hosiyaar : cautious)

najiiboN kaa ajab kuchh haal hai is daur meN, yaaro !
jise puuchho, yahii kahte haiN, ham be-kaar baiThe haiN
(najiib : nobles; daur : era; be-kaar : useless)

na’ii yeh vaz’aa sharmaane kii siikhii aaj hai tum ne
hamaare paas, saahab ! varna, yuuN sau baar baiThe haiN
(vaz’aa : reason)


ye apni chaal hai uftaadagee se ab ke pahro tak
nazar aaya jahan per saya-e-deewar baithe hain

kahaaN gardish falak kii chain detii hai, sunaa “Insha” !
Ghaniimat hai ki ham-suurat yahaaN do chaar baiThe haiN
(gardish : movement; falak : heavens; Ghaniimat : blessing; ham-suurat : similar folks)

Sayyed Insha Allah Khan 'Insha'

3 comments:

Anonymous said...

Insha Allah!

Anonymous said...

or should I say masha allah!

Prashant said...

@ anon...anything is fine as long as its intent is clear..