Search This Blog

Saturday, 9 July 2011

muddat mein wo phir taza mulaakaat ka aalam


video

muddat mein vo phir taazaa mulaaqaat kaa aalam
Khaamosh adaaon mein vo jazbaat kaa aalam

allaah re vo shiddat-e-jazbaat kaa aalam
kuchh kah ke vo bhuulii hui har baat kaa aalam

nazron se wo masoom muhabbat ke tarawish
chehre pe wo mash look khalayat ka aalam

tere aariz se Dhalakate hue shabanam ke vo qatare
aaNkhon se jhalakataa huaa barasaat kaa aalam

vo nazaro.n hii nazaro.n me.n savaalaat kii duniyaa
vo aa.Nkho.n hii aa.Nkho.n me.n javaabaat kaa aalam

wo arsh se tabar baraste hue anvaar
wo tohmatt-e arz-o-samawaatt ka aalam

wo aariz-e- purnoor, wo kaif-e-nigaah shauq
jaise ke dam-e-soz munaazaat ka aalam

aalam meri nazaron mein jigar aur hee kutch hai
aalam hai agarche wahi din raat ka aalam

Jigar Moradabaadi


मुद्दत में वो फिर ताज़ा मुलाक़ात का आलम
खामोश अदाओं में वो जज़्बात का आलम

अल्लाह रे वो शिद्दत-ए-जज़्बात का आलम
कुछ कह के वो भूली हुई हर बात का आलम

नज़रों से वो मासूम मुहब्बत की तराविश
चेहरे पे वो मुशलूक ख़यालात का आलम

तेरे आरीज़ से ढलकते हुए शबनम के वो कतरे
आँखों से झलकता हुआ बरसात का आलम

वो नज़रों ही नज़रों में सवालात की दुनिया
वो आँखों ही आँखों में जवाबात का आलम

वो अर्श से तबार बरसते हुए अनवार
वो तोहमत्त-ए अर्ज़-ओ-समावात का आलम

वो आरीज़-ए-पूरणूर, वो कैफ़-ए-निगाह शौक़
जैसे के दम-ए-सोज़ मुनाज़ात का आलम

आलम मेरी नज़रों में जिगर और ही कुछ है
आलम है अगरचे वही दिन रात का आलम

जिगर मोरादाबादी

No comments: